Showing posts with label Success Life. Show all posts
Showing posts with label Success Life. Show all posts

Monday, 16 May 2016

// // 1 comment

सही लक्ष्य साधिए: Target

Target
आज मैं आपलोगों के सामने ऐसी बात रखने जा रहा हूँ जो कि जीवन में इस बात को लेकर बहुत सारी दुविधाएँ होती है कि – अपना लक्ष्य कैसे चुने. कभी भी बड़ा आदमी बनने के लिए बड़ा सोच रखना जरुरी है और साथ ही साथ उस लक्ष्य को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत कि आवश्यकता होती है. अगर आपकी सोच बड़ी है पर आपकी मेहनत आपके सोच के मुवाफ़िक़ काम है तो आप को सफलता नहीं मिल सकती.

सही लक्ष्य साधिए:

एक Doctor वर्षों Struggle करने के बाद कार-बंगला भी रखता है, सुसज्जित माकन में रहता है, अच्छे वस्त्र पहनता है. बड़े-बड़े आदमी उसके यहाँ आते हैं, उसका वैभव (Glory) हर बात से प्रकट होता है. उसकी तड़क-भडक देखते ही College से निकले हुए एक नए युवक को प्रलोभन होता है कि यदि व्यवसाय है तो डॉक्टर का ही है. दुसरे दिन मोटर कार में घूमते हुए वह Engineer को देखता है, तब उसको विचार होता है कि यदि पेशा अच्छा है तो Engineering का है. उसको सफल प्रयत्न करने वाले नित नए मनुष्य दिखाई देते हैं और उसको नित नई कमाना सताती है. वह असमंजस में पड़ जाता है कि यह पेशा अच्छा है या वह पेशा. उसको इस लुभावनी तड़क-भड़क पर मोहित होने से पहले यह विचार कर लेना चाहिए कि डॉक्टर साहब या इंजिनियर साहब ने उस तड़क-भड़क, मान-मर्यादा को वर्षों कठिनाइयाँ झेलकर प्राप्त किया है. अपने पेशे में सफल होने के लिए उनको न जाने कितने कष्ट उठाने पड़े होंगे; वे एक ही दिन में समृद्धि (Prosperity) को प्राप्त नहीं हो गए थे.

लक्ष्य किस प्रकार बनाया जाए, यह एक विचारणीय बात है. प्रश्न यह है कि कौन सा पेशा स्वीकृत किया जाए? अपने बड़े-बूढों की सम्मति से या अपने अंतः करण की प्रेरणा से या मित्रों के कहने से या अपनी प्राकृतिक जन्मस्थिति से अपना Target या Goal बनाना चाहिए? इस प्रश्न का यथार्थ उत्तर देना अत्यंत कठिन है. मेरा मानना है कि सर्वप्रथम अपनी प्राकृतिक जन्मस्थिति को देखते हुए ही अपना लक्ष्य बनाना चाहिए; क्योंकि व्यवसाय की तुच्छता कोई वस्तु नहीं है. एक झाड़ू देने वाला जमादार भी खुश व सुखी हो सकता है, जबकि एक राजकुमार (Prince) वैभव और ऐश्वर्य से घिरा हुआ होता है, वह राजमहल (Palace) में हो रहे अवसरों से पूरा लाभ उठाने के बा-वजूद भी उसे दुःख का अनुभव हो सकता है.

जन्मस्थिति के अतिरिक्त लक्ष्य बनाने में अनुभव भी हमारा सहायक हो जाता है. अंतः करण की पुकार हमें सही मार्ग सही पर ला देती है, परन्तु संलग्नता और एकाग्रता के बिना हमें किसी भी मार्ग पर, किसी भी व्यवसाय में सफलता प्राप्त नहीं हो सकती है.

जीवन में सफलता की कामना करने वाले व्यक्ति को चाहिए कि वे संलग्नता और एकाग्रता की विचित्र शक्तियों को अपने आप में विकसित करें, ठीक उसी तरह जैसे- किसान अपनी फसल की और सांप अपने मणि कि हिफाजत करता है.

Note:

आपको यह Post कैसा लगा हमें जरुर लिखें और अपने दोस्तों को भी Share करें.
Read More

Monday, 25 April 2016

// // Leave a Comment

How to Get Success Life in Hindi: जीवन में सफल होने के अदभूद राज़

How to Get Success Life in Hindi
मैं आप लोगों को एक अच्छी जानकारी देने जा रहा हूँ.ये आपके जीवन से जुड़ी कड़ी के समान है, शायद यह Motivational Story पढ़ा कर कुछ ऐसा करने का मन करे जिससे आपके बच्चों को उनके जीवन में कभी दुःख न हो, और न आपके बच्चों को जीवन में किसी कठिनाई का सामना करना पड़े.

आज की इस बेरोजगारी की दुनिया में लोग बहुत ही परेशान हैं. लोगों को सबसे ज्यादा किसी चीज की चिंता होती है तो वो है -  जॉब...!!! 

जॉब का न मिलना एक बहुत ही बड़ी Problem है, जो की जीवन के समस्याओं में से सबसे बड़ी समस्या है. आज लोग Engineering, Medical, M.B.B.S., PhD, Graduation, इत्यादि की पढाई तो कर लेते हैं, लेकिन उन्हें Job पाने के लिए काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. अगर कोई इतनी Higher Degree हासिल करने के बाद अगर Business करना चाहे तो घर वाले Support नहीं करते है. 

घरवालों का उस वक्त ये बात हमेशा जुबान पे होती है कि अगर Business ही करना था तो पढाई में इतना पैसा खर्च क्यों किए. उन्ही पैसों से Business कर लेते तो आज तक तुम्हारे Business की एक अपनी Market Value होती. लेकिन  घरवालों का यह व्यहवार काफी दुःख भरी है. इससे किसी भी व्यक्ति का मनो बल टूट सकता है. 
मैं उन सभी लोगों से आग्रह करता हूँ जो घर के मुख्या हैं- वे अपने बच्चों को जो Higher Degree हासिल करने के बाद अगर Business करना चाहते हैं उन्हें उसके Business में हाथ बटाना चाहिए और उसे ये शिक्षा देनी चाहिए कि Business करो मगर साथ ही साथ Government Job पाने के लिए अलग से Time निकाल के उस के लिए मेहनत भी करो. शायद साल दो साल, पांच साल के बाद किस्मत चमक जाए तो आपके लड़के की Job भी होगी और आपके लिए एक घर बैठे Market में जमा हुआ Business भी होगा. अगर Job नहीं भी लगे तो कम से कम आपके बेटे की अपनी Business तो होगी, आपको कभी अपने बेटे को लेकर कोई चिंता नहीं होगी. उसकी Life में काफी मुश्किलें आएंगी लेकिन उन मुश्किलों को सहन करने की क्षमता उसमे आ जाएगी. वो अब एक Successful व्यक्ति बन जाएगा. 

एक बहुत बड़ी समस्या सभी के परिवार में होती है कि Guardian अपने बच्चों की Life से Related फैसला खुद ही करते हैं. जिससे उनके बच्चों को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ता है. वो अपनी Life को घुट घुट के जीते हैं, और पूरी जिंदगी अपने माँ-बाप को कोसते रहते हैं. इसलिए मैं उन सभी माँ-बाप से गुजारिश करता हूँ कि अपने बच्चों के Life से Related फैसले खुद न करें. आप अपने बच्चों से उनके जिंदगी के बारे में अच्छी बातें करें और अच्छी सलाह दें. बस...!!! फैसला आपके बच्चे खुद ले लेंगे.

एक फिल्म जो Bollywood की दुनिया में बहुत Motivational Movies में सबसे अच्छी Movie मानी जाती है- 3 Idiot. इस फिल्म में बहुत ही अच्छी शिक्षा मिली कि अपने बच्चों को खुल के जीने दें और उन्हें अपने Future Related निर्णय खुद लेने दें. आप अपने बच्चों को इसके लिए अच्छी सलाह दे सकते हैं लेकिन फैसला उन्हें खुद लेने की आजादी दें. तो Success की मुकाम को खुद हासिल कर लेंगें. Success होने के बाद वे आपको तहेदिल से प्यार और सम्मान देंगे. यहाँ तक की वो आपका बेटा होने पर गर्व करेगा. आप जब बूढ़े हो जाएँगे तो आपका अच्छे से ख्याल रखेगा और आपकी सेवा पुरे मन से करेगा.

आप अगर किसी Family के Guardian हैं तो आप ये सोचते हैं कि मेरे माँ-बाप ने मेरी जिंदगी से Related फैसला किया, तो मैं भी अपने बच्चों के Life Related फैसला करूँगा. लेकिन ये बिल्कुल गलत है.

आप चाहते हैं कि मेरा बेटा किसी अच्छी Company में Job करे लेकिन आपका बेटे को जॉब बिल्कुल पसंद नहीं. वो आपकी इज्ज़त रखने के लिए अगर Job कर भी ले तो वो कभी मन से अपना काम नहीं करेगा. ऐसे में वह कभी Success नहीं हो सकता.

Note: 

आपको How to Get Success Life in Hindi पर यह Post कैसा लगा हमें जरुर लिखें. अगर अच्छा लगे तो अपने दोस्तों को Facebook, Twitter, LinkedIn, Whatsaap के जरिये Share जरुर करें.

Read More
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...